सलवार का नाड़ा तोड़ दिया


Kamukta, antarvasna मैं और राजेश बचपन के दोस्त हैं हम दोनों के बीच बहुत अच्छी दोस्ती है और हम दोनों एक दूसरे के पड़ोस में ही रहते हैं राजेश एक दिन मुझसे कहने लगा यार मैं सोच रहा था अपने गांव हो आऊं। राजेश के पिताजी का भी गांव से बहुत लगाव है और उनका गांव हरियाणा में है मैंने राजेश से कहा ठीक है तो तुम अपने गांव चले जाओ। वह मुझे कहने लगा यार तुम भी मेरे साथ चलो मैंने राजेश से कहा लेकिन मैं तुम्हारे गांव आकर क्या करूंगा वह मुझे कहने लगा तुम मेरे साथ चलो तो सही तुम्हें वहां पर बहुत अच्छा लगेगा। हम लोग बचपन से ही मुंबई में पले बड़े हैं इसलिए मुझे क्या पता था कि उसके गांव का कैसा माहौल है मैंने उसे कहा ठीक है मैं तुम्हारे साथ चलता हूं लेकिन हम लोग वहां कितने दिन रहेंगे। वह मुझे कहने लगा वह तो वहीं जाकर पता चलेगा कि हम लोग कितने दिन वहां पर रुकने वाले हैं मैंने राजेश से कहा यार वहां पर कोई परेशानी तो नहीं होगी वह मुझे कहने लगा नहीं वहां पर कोई परेशानी नहीं होगी तुम सिर्फ मेरे साथ चलो।

मैं भी राजेश की बात मान गया और मैं उसके साथ उसके गांव चलने के लिए तैयार हो गया हम दोनों ही उसके गांव जाने की तैयारी में थे। मैं पहली बार ही गांव का माहौल देखने वाला था क्योंकि मैं बचपन से ही मुंबई में पला बढ़ा हूं मैंने कभी भी गांव का माहौल नहीं देखा था मेरे अंदर उत्सुकता भी थी। मैं गांव के बारे में जानना चाहता था और गांव का माहौल देखना चाहता था मैंने अपना सारा सामान पैक कर लिया और अपने कैमरे को भी अपने बैग में रख लिया। हम लोगों ने मुंबई से ट्रेन ली और हम लोग हरियाणा पहुंच गए जब हम लोग हरियाणा पहुंचे तो मैंने उसे कहा अब हमें कहां जाना है। हम लोग रोहतक में थे रोहतक से हम लोगों ने बस ली बस में काफी ज्यादा भीड़ थी लेकिन हम लोगों के लिए बैठने की जगह मिल गई थी और वहां से हम लोग राजेश के गांव के लिए चल पड़े। करीब दो घंटे बाद राजेश का घर आया और फिर हम लोग वहां पर उतरें वहां से कुछ ही दूरी पर राजेश का गांव था हम लोग 10 मिनट पैदल चलने के बाद उसके गांव में पहुंचे। जब वह मुझे अपने घर में लेकर गया तो उसका घर काफी बड़ा था हम लोगों ने घर का दरवाजा खोला मैंने राजेश से कहा क्या यहां पर कोई नहीं रहता।

वह कहने लगा पहले मेरे चाचा चाची घर की देखभाल किया करते थे लेकिन अब वह भी दिल्ली में रहते हैं इसलिए घर में कोई नही है। मैंने उसे कहा तो फिर तुम्हारी घर की देखभाल कोई नहीं करता तो वह कहने लगा नहीं कभी कबार चाचा और चाची घर आ जाते हैं तो वही लोग देख लिया करते हैं या फिर कभी पापा आ जाते हैं तो वह लोग घर की देखभाल करते हैं और घर में साफ सफाई कर दिया करते हैं। हम दोनो घर के अंदर बैठे हुए थे तभी किसी ने आवाज दी हम दोनों बाहर आए तो राजेश के कोई परिचित थे वह राजेश से पूछने लगे तुम कब आए तो राजेश ने कहा बस आज ही हम लोग आए हैं। वह महिला कहने लगी यदि खाने की कोई तकलीफ हो तो तुम हमारे घर पर आ जाना राजेश ने कहा ठीक है हम लोग आ जाएंगे और कुछ देर बाद हम लोग उनके घर पर खाना खाने के लिए चले गए। हम लोग जब उनके घर पर खाना खाने गए तो मैंने राजेश से पूछा यह कौन है राजेश कहने लगा यह मेरी गांव की चाची हैं। हम लोगों ने उनके घर पर खाना खाया उनके घर में उस वक्त कोई भी नहीं था हम लोगों ने खाना खाया और हम लोग वहां से वापस चले गए। जब हम लोग वापस आ रहे थे तो उसी वक्त मेरी नजर एक लड़की पर पड़ी उसने नीले रंग का सूट पहना हुआ था और वह बहुत सुंदर लग रही थी उसने अपने सर पर दुपट्टा उड़ा हुआ था। मेरी नजर उस पर से तो एक पल के लिए हटी ही नहीं मैं उसे देखता रहा मैंने राजेश से पूछा कि यह कौन है तो राजेश ने कहा कि यह उन्हीं चाची की लड़की हैं। मैंने राजेश से कहा लेकिन उसने तुमसे बात नहीं की तो वह कहने लगा शायद उसने मुझे पहचाना नहीं होगा इसीलिए उसने मुझसे बात नहीं की फिर हम लोग घर पर आकर आराम करने लगे। अगले दिन जब हम लोग राजेश के खेतों में गए तो वहां पर राजेश के बड़े-बड़े खेत देखकर मैंने उसे कहा तुम्हारे यहां पर तो काफी अच्छी खेती होती है।

वह कहने लगा तुम जो यह खेत देख रहे हो पहले इसमें मेरे पापा लोग भी खेती किया करते थे लेकिन अब पापा बूढ़े हो चुके हैं इसलिए वह सिर्फ गांव में ही आ जाया करते हैं। जब हम दोनों आपस में बात कर रहे थे तो तभी मीना भी हमारे पीछे से आई उसने राजेश से बात की वह राजेश से कहने लगी कल मैंने आपको पहचाना ही नही राजेश कहने लगा कोई बात नहीं। मीना हमारे साथ बैठ गई और वह राजेश से बात करने लगी मैं सिर्फ मीना के चेहरे पर देख रहा था और मुझे उसे देखने में बहुत अच्छा लग रहा था क्योंकि उसके चेहरे की मासूमियत और उसकी सुंदरता मुझे अपनी ओर खींच रही थी। राजेश और मीना काफी देर तक एक दूसरे से बात करते रहे तभी राजेश ने कहा यह मेरा दोस्त कमल है और यह हमारे पड़ोस में ही रहता हैं मीना ने मुझे कहा अच्छा तो आप इन्हें भी मुंबई से हमारा गांव दिखाने के लिए लाए हैं। मैंने मीना से कहा हां मैं राजेश के साथ आप लोगों का गांव देखने के लिए आया हूं वह कहने लगी तो आपको हमारा गाँव कैसे लगा मैंने मीना से कहा अभी तो मैं आपका गांव पूरी तरीके से घूमा भी नहीं हूं। मीना राजेश से कहने लगी भैया क्या आपने इन्हें अभी तक पूरा गांव नहीं दिखाया राजेश कहने लगा नहीं आज तो हम लोग बस यही खेतों में आए थे और सुबह से हम लोग यही बैठे हुए हैं।

मीना कहने लगी आपने क्या हमारे गांव की स्कूल देखी है राजेश ने कहा हां मीना हम लोग वहां चलते हैं राजेश पहले गांव के स्कूल में ही पढ़ा करता था। वह मीना से पूछने लगा अब तो स्कूल काफी अच्छी बन चुकी होगी मीना कहने लगी हां स्कूल तो अब बहुत अच्छी हो चुकी है और फिर हम लोग वहां से स्कूल की तरफ चले गए। जब हम लोग स्कूल गए तो हमने वहां देखा वह पूरी तरीके से बदली हुई थी मीना कहने लगी कुछ ही साल पहले यहां पर नई स्कूल बनी है। उसके बाद हम लोग वहीं से पैदल चलते-चलते आगे की तरफ को निकले तभी राजेश के कुछ और परिचित मिल गए जो राजेश से बात करने लगे, मीना मुझसे बात कर रही थी और उसके बाद हम लोग घर लौट आए। मुझे गांव का माहौल काफी अच्छा लग रहा था गांव में बहुत शांति थी और सब कुछ बड़े ही अच्छे तरीके से था सब लोग एक दूसरे से मेलजोल बनाकर रह रहे थे। मैंने राजेश से कहा शहर और गांव में यही अंतर होता है गांव में सब लोग एक दूसरे की मदद के लिए आगे आ जाते हैं और शहर में तो सिर्फ मतलब के लिए ही सब लोग एक साथ रहते हैं। राजेश मुझे कहने लगा हां कमल तुम बिल्कुल सही कह रहे हो यह बात तो तुमने बिल्कुल सच कही। मीना जब भी हमारे साथ होती तो मुझे उससे बात करना अच्छा लगता वह मुझे बहुत पसंद थी लेकिन मैं यह बात राजेश के सामने नहीं कह सकता था। मैं मीना को दिल ही दिल चाहने लगा था मैं मीना के साथ समय बिताना चाहता था लेकिन मीना को मेरे दिल की बात पता नहीं थी कि मेरे दिल में क्या चल रहा है। राजेश ने कहा तुम घर पर रहो मै अभी आता हूं और वह चला गया मैं घर पर अकेला बैठा हुआ था तभी मीना आई तो वह कहने लगी भैया कहां है।

मैंने उसे कहा वह तो किसी काम से गया है और अभी कुछ देर बाद आता होगा मीना मेरे साथ ही बैठ गई। मैं मीना को देखे जा रहा था और वह भी मेरी तरफ देख रही थी मुझे उसे देखने में बहुत अच्छा लगता वह भी मेरी तरफ बड़े ध्यान से देख रही थी। मैंने जैसे ही अपने हाथ को उसकी जांघ पर रखा तो वह शर्माने लगी। मैंने उसे कहा तुम शर्माओ मत लेकिन उसके अंदर भी शायद जवानी का जोश जाग चुका था मैने उसकी कमसिन जवानी का मजा मैंने बड़े ही अच्छे से लिया। मैंने उसे अपने नीचे लेटा दिया और उसके स्तनों को दबाना शुरू किया कुछ देर तक मैं उसके होठों को चूमता रहा उसके स्तनों को मैने भरपूर तरीके से मजा लिया उसे बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी बड़ा आनंद मिल रहा था। हम दोनों ही एक दूसरे के बदन को बहुत अच्छे से महसूस कर रहे थे मैंने जब उसके सलवार के नाडे को खोला तो उसने काले रंग की पैंटी पहनी हुई थी मैंने वह भी उतार दी और उसकी बिना बाल वाली चूत को अपनी जीभ से मैं चाटने लगा। मुझे बड़ा मजा आ रहा था और वह भी बहुत खुश थी मैंने उसके सूट को खोलते हुए उसके स्तनों का जमकर रसपान किया उसका कमसिन बदन मेरे सामने था।

जैसे ही मैंने अपने लंड को उसकी योनि के अंदर धक्का देते हुए घुसाया तो उसकी सील टूट चुकी थी वह बहुत तेज चिल्लाने लगी, उसकी योनि से खून का बहाव होने लगा। मैं उसे तेजी से धक्के मारने लगा लेकिन वह मेरा साथ बड़े अच्छे से देती और अपने दोनों पैरों को चौड़ा कर लेती जिससे मैं उसकी योनि के अंदर बाहर अपने लंड को करता। उसके अंदर का जोश भी बढ़ता चला जाता और उसकी उत्तेजना में दोगुना बढोतरी हो जाती। वह मेरा साथ बड़े अच्छे से दे रही थी जब उसने मुझे अपने पैरों के बीच में जकड़ लिया तो मैं समझ गया कि वह संतुष्ट हो चुकी है लेकिन मैं अब तक संतुष्ट नहीं हुआ था मैं उसे तेज गति से धक्का देता जा रहा था। मैंने काफी तेजी से उसे धक्के दिए उसने भी मेरा भरपूर साथ दिया मैंने जब अपने वीर्य को उसकी योनि मे गिराया तो मुझे बड़ा अच्छा लगा। हम दोनों ने अपने कपड़े पहन लिए थे और वह शर्माते हुए वहां से चली गई अब मैं मुंबई लौट चुका हूं लेकिन अब भी मेरे दिल में मीना की यादें है।


error:

Online porn video at mobile phone


bhen ko chodchoda chodi hindi storydesi sex in trainbollywood ki chudai ki kahanichudai balatkar kahanihostel sex storiesrangeen kahaniyasex desi chudaimaa ki gili chootincest sex kahaniaantarvasna comkahani chodne kiantrvasna hindi khanihindi chodai khanihindi sex story familyjija ne sali ko choda storygirl ki chut chudaibahan ko patayahindi sex story photomaa ki sexy chutsexi love storysexy storirsindian sister sex storieschudai ki chut kijija sali ki chudaigaand ki chudai kahanichoot n lundchut chodchoot ki chudai hindi storyhot salibahan ki boor chudailesbo saxantay sexynangi bhabhi ki chudai photomummy ki chudai sex storysexy story in bhojpurinadan chutchoot behan kigand chodne ka mazahindi sexy kahaniya 2015hindi x storyhot chudai kahani in hindipregnant ladki ko chodaindian muslim sex storiesindian hot lesbian sexbehan kibur chodne ki photodewar fuckbahan aur maa ki chudaibhabhi ki devar chudaikmukta combhabhi ki mast chudai hindi sex storychudai smssex bahangroup me chudaisaxi khaniaunty k chodasexy lesbian storiesbahan ki chudai comdeasi kahanijabardasti chudai story in hindichudai ki latest kahaniasexy story in hindi versionrandi banichudai bhabhi devargirlfriend ke sath sexhindi hot stories in hindi fontmalkin ko chodachoot ke chitrachod dalohindi zavazavihindi pornechut aunty kigarib ladki ko chodaantarvasnahindisexstoriesmami ki chudai sexy storyhindi sex kahaniyaanchodai ki khani hindi meantarvasna kahani hindi mehindi maid sexxnxx khanihot hindi chudaiteacher sex story in hindichut land indianchudai ki dastanhindi sexy stooryhindi sexi story comboy ne boy ki gand marisoti maa ko chodaiss stories in hindimastani chuthindi urdu chudai kahanibhabhi ki kahani hindilive sex in hindi