मैं अकेली हूं इसीलिए प्यासी हूँ


Antarvasna, kamukta मैं चंडीगढ़ में नौकरी करता हूं और मैं जिस कंपनी में नौकरी करता हूं उस के सिलसिले में मुझे कई बार अन्य शहरों में भी जाना पड़ता है मैं अपने घर पर बहुत कम ही समय बिताया करता हूं क्योंकि मुझे ज्यादातर बाहर ही रहना पड़ता है। एक बार मैं अपने काम के सिलसिले में जयपुर चला गया जयपुर में मेरे चाचा जी भी काम करते हैं वह सरकारी विभाग में है और वहां पर उन्हें काम करते हुए 3 साल हो चुके हैं मैं जब भी जयपुर जाता हूं तो मैं उन्हीं के पास रुकता हूं। मैंने अपने चाचा जी को फोन किया और कहा मैं जयपुर आने वाला हूं चाचा कहने लगे ठीक है बेटा तुम आ जाओ मैं अपने चाचा जी के पास चला गया वह लोग सरकारी क्वार्टर में रहते हैं उन्हें गवर्नमेंट की तरफ से रहने के लिए घर मिला हुआ है।

चाचा जी मुझे कहने लगे बेटा तुम यहां कितने दिनों तक रुकने वाले हो मैंने चाचा से कहा अब देखते हैं कितने दिन यहां पर लगते हैं चाचा कहने लगे बेटा मैं भी सोच रहा था कि तुम्हारे साथ ही इस बार चंडीगढ़ चलूं काफी समय हो गया है जब हम लोग भैया भाभी से भी नहीं मिले और हमारा घर पर भी आना नहीं हो पाया। हम लोग अभी ज्वाइंट फैमिली में रहते हैं लेकिन चाचा जी की नौकरी की वजह से उनका परिवार उन्ही के साथ रहता है हमारे साथ मेरे ताऊजी और उनका परिवार रहता है हमारा परिवार काफी बड़ा है मेरे चाचा जी का नेचर भी बहुत अच्छा है और मेरे पापा मेरे ताऊजी की बड़ी तारीफ किया करते हैं वह कहते हैं सुरजीत भाई साहब बडे ही समझदार है। मेरे चाचा पढ़ने में बहुत अच्छे थे इसलिए उन्होंने सरकारी नौकरी की और जब उनकी नौकरी लग गई तो उसके बाद उन्होंने अपनी जिम्मेदारी खुद ही उठाई। मेरे दादा जी का देहांत काफी समय पहले ही हो चुका था लेकिन मेरे ताऊजी और मेरे पिता जी ने बहुत मेहनत की और उन्होंने चाचा के लिए कभी कोई कमी नहीं की इसीलिए वह भी मेरे पिताजी और ताऊजी जी की बड़ी इज्जत करते हैं। मैंने चाचा से कहा हां चाचा क्यों नहीं आप भी इस बार चंडीगढ़ चलिए आपको भी घर आए हुए काफी समय हो चुका है चाचा कहने लगे बेटा तुम्हें तो मालूम है परिवार के साथ अब कहीं भी जाना संभव ही नहीं हो पाता मैंने चाचा से कहा तो आप इस बार जरूर चलिएगा चाचा कहने लगे ठीक है बेटा इस बार जरूर चलेंगे।

मैं कुछ दिनों तक जयपुर में ही रहने वाला था मैं सुबह अपने काम से निकल जाया करता था और शाम को आता था एक शाम जब मैं अपने काम से लौटा तो उस दिन उनके पड़ोस में रहने वाली एक आंटी आई हुई थी और वह हमारी चाची के साथ बात कर रही थी। मेरी चाची ने मुझसे उनका परिचय करवाया मैंने उनसे उनके हालचाल पूछा और मैं रूम के अंदर चला गया मैं फ्रेश होने के लिए चला गया और जब मैं कपड़े चेंज करके बाहर आया तो मैंने देखा एक लड़की भी बैठी हुई थी। मेरी चाची ने कहा यह मेघा है मैंने जब मेघा को देखा तो मुझे वह बहुत अच्छी लगी और उसे देखते ही मेरे दिल में जैसे उसके प्रति एक अलग ही फीलिंग आने लगी मैं मेघा को देखता रहा चाची ने मेघा को भी मुझसे मिलवाया और कहा यह हर्षित है। मुझे नहीं मालूम था कि मेघा उन्ही आंटी की लड़की है जो कुछ देर पहले चाची से बात कर रही थी चाची ने मुझे बताया कि अभी जो आंटी मुझसे बात कर रही थी वह मेघा की मम्मी है। मैंने मेघा से बडे ही फ्रैंकली तरीके से बात की और उसे पूछा तुम क्या कर रही हो मेघा कहने लगी मैं स्कूल में बच्चों को पढ़ाती हूं। वह एक प्राइवेट स्कूल में टीचर है लेकिन जब मैंने मेघा को देखा तो उसे देखकर मुझे बहुत अच्छा लगा मैं पहली बार ही मेघा से मिला था परंतु उसके चेहरे की मासूमियत मुझे अपनी तरफ खींच रही थी और ना जाने मुझे एक अलग ही फीलिंग उसे लेकर आने लगी। मैं मेघा से बात कर रहा था तो मुझे अच्छा लगा लेकिन ज्यादा देर तक मैं उससे बात ना कर सका वह अपने घर चली गई मेघा जब अपने घर गई तो मुझे ऐसा लगा जैसे कि मैं उससे बात करता ही रहूं लेकिन यह संभव नहीं था फिर मैंने मेघा से उसके बाद बात नहीं की और ना ही वह मुझे मिली। मैं चाचा और चाची के साथ चंडीगढ़ वापस आ गया था वह लोग कुछ दिनों तक चंडीगढ़ में रहे लेकिन मैं सोचने लगा कि कब मैं जयपुर जाऊंगा और कब मेरी मेघा से दोबारा मुलाकात हो लेकिन मेरा जयपुर जाना हो ही नहीं पा रहा था।

मैंने एक दिन सोचा कि क्यों ना मैं छुट्टी लेकर चले जाऊं मैंने अपने ऑफिस से कुछ दिनों की छुट्टी ले ली और मैं जयपुर चला गया। मैं जब जयपुर गया तो मुझे बहुत अच्छा लगा और उस वक्त मेरी मुलाकात मेघा से हो गई मेघा से मैं जब भी बात करता तो मुझे अच्छा लगता मैं चाहता था कि मुझे मेघा का नंबर मिल जाए ताकि मेरी बात उससे फोन पर होती रहे। एक दिन मेघा से मैंने उसका फोन नंबर ले लिया और उससे मैं फोन के माध्यम से बात करने लगा लेकिन मेघा को मेरा फोन पर बात करना अच्छा नहीं लगता था इसलिए वह मेरा फोन कम ही उठाया करती थी। वह बहुत ही अच्छी लड़की है उसे यह एहसास हो चुका था कि मैं उससे बात करने की कोशिश कर रहा हूं और मैं जानबूझकर उसे फोन करता। मुझे मेघा से बात करना वाकई में अच्छा लगता है और मेघा से बात कर के मुझे बहुत खुशी होती मेघा को मैंने अपने दिल की बात नहीं बताई थी लेकिन उसे मैं जल्द ही अपने दिल की बात बताना चाहता था।

कुछ ही समय मे मैंने मेघा को अपने फीलिंग का इजहार कर दिया लेकिन उसने मुझे मना कर दिया और कहा देखो हर्षित मैं तुम्हें एक अच्छा लड़का मानती हूं और मुझे मालूम है कि तुम दिल के बहुत अच्छे हो लेकिन मैं इन चक्करो में नहीं पढ़ना चाहती। मैंने उसे कहा क्या हम लोग यह सब बातें एक दूसरे से थोड़ा समय निकाल के कर सकते हैं मेघा ने कुछ देर सोचा और कहने लगी ठीक है मैं देखती हूं मैं तुम्हें फोन करता हूं जब मैं फ्री हो जाऊंगी। मैं मेघा का इंतजार करता रहा लेकिन उसका फोन मुझे नहीं आया और मुझे वापस चंडीगढ़ आना पड़ा क्योंकि मेरी छुट्टियां भी खत्म हो चुकी थी मैं चंडीगढ़ चला आया था। मेघा का मुझे एक दिन फोन आया और वह कहने लगी मैं तो सोच रही थी कि तुम कुछ दिन और यहां रुकोगे लेकिन तुम तो चंडीगढ़ चले गए मैंने उसे कहा मेरी छुट्टियां खत्म हो गई थी इसलिए मुझे चंडीगढ़ आना पड़ा लेकिन तुम्हारे पास वक्त ही नहीं था और ना ही तुमने मुझे फोन किया। मेघा को भी शायद अपनी गलती का एहसास था मेघा ने मुझे सॉरी कहा मैंने उसे कहा तुम्हें मुझे सॉरी कहने की जरूरत नहीं है मैं तो सिर्फ चाहता था कि हम दोनों साथ में बैठकर अकेले में बात करें क्योंकि तुम्हें मेरे बारे में अभी अच्छे से नहीं पता और ना हीं तुम मेरे बारे में कुछ जानती हो। तुम अपनी जगह बिल्कुल सही थी इसलिए तो मैं चाहता था कि हम लोग एक दूसरे से बात करें ताकि हम दोनों एक दूसरे को समझ सके मेरे दिल में जो तुम्हारे लिए फीलिंग थी मैंने तुम्हें वह बता दी थी। मेघा मुझे कहने लगी मुझे मालूम है कि तुम मेरे बारे में क्या सोचते हो मैंने मेघा से कहा मेरे दिल में तुम्हारे लिए बड़ी इज्जत है और मैंने जब तुम्हें पहली बार देखा था तो उसी वक्त मैं तुमसे प्यार कर बैठा था। मेघा कहने लगी जब तुम जयपुर आओ तो मुझे फोन कर देना मैंने मेघा से कहा ठीक है मैं जब भी जयपुर आऊंगा तो मैं तुम्हें फोन कर दूंगा। मैं मेघा से काफी समय तक मिल नहीं पाया परंतु मुझे काफी समय बाद मेघा से मिलने का मौका मिला मैं जयपुर चला गया। जब मैं जयपुर गया तो मैंने मेघा को फोन किया उससे मेरी बात फोन पर ही हुई। वह मुझे कहने लगी क्या तुम जयपुर आए हुए हो मैंने उसे बताया हां मैं जयपुर आया हूं।

वह मुझे कहने लगी तुम शाम को मुझे मिलना शाम के वक्त मै घर पर ही रहूंगी हम लोग मेरे घर पर ही बैठ जाएंगे। मैंने मेघा से कहा ठीक है मैं शाम के वक्त अपने ऑफिस के काम से भी फ्री हो जाऊंगा और तुमसे मिलने के लिए आ जाऊंगा। मैं शाम के वक्त अपने ऑफिस के काम से फ्री हुआ तो मैंने मेघा को फोन किया मेघा मुझे कहने लगी तुम घर पर आ जाओ। मै मेघा से मिलने के लिए घर पर चला गया जब मैं मेघा से मिलने उसके घर पर गया तो वह सोफे पर बैठी हुई थी। मेघा ने मुझसे कहा आओ बैठो मैं मेघा की तरफ देखने लगा और उसके बगल में जाकर बैठ गया। हम दोनों एक दूसरे से बात कर रहे थे मेघा ने मुझसे कहा देखो हर्षित तुम मुझे अच्छे लगते हो लेकिन मैंने कभी तुम्हारे बारे में ऐसा नहीं सोचा। मैंने मेघा से कहा मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं और यह कहते हुए मैंने उसे अपने गले लगाने की कोशिश की लेकिन वह मुझसे दूर जाने लगी।

मैंने उसे अपनी बाहों में ले लिया मैं अपने अंदर के ज्वालामुखी को ना रोक सका और वह उस वक्त फट गया। मैंने उसके होठों को किस किया और मेघा को सोफे पर लेटा दिया वह छटपटाने लगी लेकिन मैंने उसे छोड़ा नही। मैंने जब उसके कपड़े उतारे तो उसके स्तनों को मैंने काफी देर तक चूसा उसके स्तन बड़े ही लाजवाब थे मैंने जैसे ही अपने लंड को उसकी योनि पर सटाते हुए अंदर की तरफ धकेला तो वह चिल्ला उठी। वह काफी तेजी से चिल्लाई मुझे उसे धक्के देने में बहुत मजा आया मैंने उसे तेजी से धकके दिए। काफी देर तक मैंने उसके बदन की गर्मी को महसूस किया जब मैं पूरी तरीके से संतुष्ट हो गया तो मैंने उसे अपने गले लगा लिया और कहा तुम्हें रोने की आवश्यकता नहीं है मैं तुमसे सच्चा प्यार करता हूं। उस दिन के बाद वह मुझसे प्यार कर बैठी और उसे समझ आ गया की मैं उससे कितना प्यार करता हूं। जब भी मैं जयपुर जाता तो वह मुझे कहती तुम घर पर ही आ जाओ मैं उससे मिलने के लिए घर पर ही चला जाता हूं।


error:

Online porn video at mobile phone


chut ki chudai ki hindi kahanibeeg indian bhabhichut hindi sexaunty ki chudai hindisexy story in bhojpuriaunty ki chudai ki photodesi sexy stories in englishdidi ki chut medewar or bhabhi ki chudaisexstroies in hindichut or lundkuwari ki chutbur ki chudai hindi kahanisexy story hindolund ki chahatxxx hindi porn storychudai of auntyaunty ki chut maariboor ka chodaidesi aurat ki chudaijija sali ki chudai in hindilund or chut ka milanchachi ki garam chutchudai ki desi storymoti moti gaandindian night porngand chut chudaihindi sexstoribhai behan hindi kahanigay chudai story in hindisabse bade lund se chudaisadi me bhabhi ki chudaisex hindi sex hindi sexsonia ki chootkhullam khulla bfparivaar ki chudai1st tym sexdesi aunty ko chodachudai story sexsexey storeybhabhi ki choot ki chudaigaand maralihindi ladki sexbari bhabhi ki chudaiamerican girl ki chudaichudai ki pyasi auratantarvasna papachikni chut ki chudaibhabhi ki chut mari storychodo mujheantarvasna antarvasna antarvasna antarvasnagand mari ladkihindi chut chudai storyschool girl sex storiesxxx sex storydasi khanisuhagrat ki chudai photomeri chut kidevar sali ki chudaidevar bhadevar se chudichut in hindidesi saxy storystory for sex hindigirlfriend ki gaandchut indianhot bhabhi choothindisexykhanimausi ki chudai ki kahani videosex story antyhinde sexe storechote bhai ki biwi ko chodadesi pain full fuckmuslim aunty sex storystory mami ki chudaihindi mein chudaibhabhi com hindihindi sexy story appindian hot saxhottest sex story in hindidesi maa beta chudai kahanibiwi ki group me chudaidesi blue film fullkamwali auntychut chudwane ki kahanihindi sex story site