आखिरकार परीक्षा अच्छी रही


kamukta, antarvasna मुझे एक बार अपने एग्जाम के लिए दिल्ली जाना था, मैं सरकारी प्रतियोगिता की तैयारी कर रहा था उसी दौरान मैंने एक सरकारी पद के लिए आवेदन किया था और जब मैंने उसमें आवेदन किया तो एग्जाम के लिए मुझे दिल्ली जाना था दिल्ली में मुझे मेरे मामा के घर पर जाना था क्योंकि दिल्ली में मैं ज्यादा किसी को नहीं जानता था, मैंने अपना रिजर्वेशन अपने पापा से कहकर करवा दिया था, मेरे पापा स्कूल में क्लर्क हैं, उन्होंने मुझे कहा कि मैं तुम्हारा रिजर्वेशन करवा दूंगा। जब उन्होंने मरा रिजर्वेशन करवाया तो उस दिन वह घर पर आए और मुझे कहने लगे गौतम तुमने अपनी परीक्षा की पूरी तैयारी तो कर ली है? मैंने उन्हें कहा पिताजी इस बार तो मुझे पूरी उम्मीद है यह कहते हुए वह कहने लगे बेटा तुम जल्दी से बस कोई सरकारी नौकरी ज्वाइन कर लो जिससे कि मुझे भी थोड़ा मदद मिल जाए।

मेरे पिताजी के ऊपर काफी कर्च हो चुका था क्योंकि उन्होंने मकान बनाने के लिए बैंक से लोन लिया था और उसकी किस्त भरने के लिए उन्हें बहुत दिक्कत होती, उन्होंने मेरी पढ़ाई का खर्चा भी उठाया इसलिए मैं भी चाहता था कि जल्दी से मैं कोई परीक्षा उत्तीर्ण कर लूं ताकि उन्हें भी थोड़ी बहुत मदद मिल जाए। जिस दिन मुझे दिल्ली जाना था उस दिन मुझे घर से निकलते वक्त काफी देर हो गई मुझे लगा कि कहीं मेरी ट्रेन ना छूट जाए इसलिए मैं जल्दी से स्टेशन पहुंच गया लेकिन मैं घर पर अपने पिताजी के दिए हुए पैसे भूल चुका था, मैंने सोचा कोई बात नहीं अब दिल्ली पहुंच कर ही उन्हें फोन करूंगा, मेरे पास थोड़े बहुत पैसे पड़े थे। मैं जब ट्रेन में बैठा हुआ था तो मेरे पिताजी ने मुझे फोन किया और कहने लगे बेटा तुम समय पर स्टेशन पहुंच तो गए थे, मैंने उन्हें कहा जी पिताजी मैं समय पर स्टेशन पहुंच गया था, मैं उनसे फोन पर बात ही कर रहा था तभी एक लड़की सामने से आई उसके हाथ में किताब थी उसने इधर उधर कहीं नहीं देखा और सीधा ही वह मेरे सामने वाली सीट में बैठ गई मैं उसे बड़े ध्यान से देख रहा था उसने बड़े बड़े चश्मे लगाए हुए थे मैं सोचने लगा कि इसे कैसे पता चला कि इसकी सीट यहीं पर है क्योंकि उसका ध्यान ना तो इधर-उधर था और ना ही वह किसी की तरफ देख रही थी। मैंने उससे पूछा मैडम आपका सीट नंबर क्या है? उसने मुझे बताया मेरा सीट नंबर 23 है।

मैंने देखा तो वह बिल्कुल सही सीट पर बैठी हुई थी उसके बाद वह दोबारा से किताब पढ़ने पर लग गई, मैंने उससे ज्यादा बात नहीं की। मेरे बिल्कुल बगल में एक परिवार बैठ चुका था उन्हें भी दिल्ली जाना था वह अंकल मुझसे पूछने लगे बेटा तुम्हें कहां जाना है? मैंने उन्हें कहा अंकल मुझे दिल्ली जाना है, दिल्ली में मेरी परीक्षा है। जब मैंने यह बात उन अंकल से कहीं तो वह लड़की भी मेरी तरफ देखने लग गई, उसने मुझसे पूछा तुम्हारा एक्जाम सेंटर कहां पर है? मैंने उसे बताया कि मेरा एग्जाम सेंटर राजीव चौक के पास है। मैंने जब उसे यह बात बताई तो वह कहने लगी मैं भी उसी परीक्षा के आई हूं और मेरा सेंटर भी वहीं पर है, मैंने उससे हाथ मिलाते हुए अपना इंट्रोडक्शन दिया, उसने मुझसे कहा मेरा नाम अनुष्का है वह किताब से बाहर आ चुकी थी और मुझसे बात करने लगी। मैंने उससे पूछा क्या तुमने यह पहली बार फॉर्म भरा है? वह कहने लगी हां मैंने पहली बार ही किसी काम के लिए फॉर्म भरा है इससे पहले मैंने कोई भी फॉर्म नहीं भरा था। वह मुझसे पूछने लगी क्या आप पहली बार एग्जाम दे रहे हैं? मैंने उसे कहा नहीं मैंने तो इससे पहले भी कई बार ट्राई किया लेकिन मेरा कहीं भी कुछ नहीं हुआ परन्तु इस बार मुझे उम्मीद है कि शायद यह परीक्षा मैं निकाल लूंगा और यहां मेरा सिलेक्शन हो जाएगा, वह कहने लगी चलो ये तो बहुत अच्छी बात है कि आपको अपने पर पूरा भरोसा है। मेरा सफर उस दिन बहुत अच्छा कटा, जब हम लोग दिल्ली पहुंच गए तो अनुष्का मुझे कहने लगी आप यहां कहां रुके हैं? मैंने उसे बताया कि मैं अपने मामा जी के पास यहां रुकने वाला हूं। वह कहने लगी मैं भी अपनी मौसी के घर पर रुकने वाली हूं, यह कहते हुए मैंने उसे कहा चलो फिर हम लोग कल मिलते हैं, मैं भी स्टेशन के बाहर आ गया और वहां से मैं अपने मामा जी के घर चला गया, अनुष्का भी अब जा चुकी थी। मुझे अंदर से तो बहुत टेंशन हो रही थी क्योंकि मुझे किसी भी हाल में यह परीक्षा निकालनी हीं थी, जब मैं अपने मामा जी के पास पहुंचा तो वह कहने लगे गौतम बेटा तुम्हें आने में कोई तकलीफ तो नहीं हुई? मैंने कहा नहीं मामा जी मेरा तो सफर बहुत अच्छे से कट गया। वह मुझसे कहने लगे तुमने इस बार तो अच्छे से तैयारी की है, मैंने उन्हें कहा जी मामा जी मैंने इस पर बहुत अच्छे से तैयारी की है।

अगले दिन जब मैं एग्जाम देने के लिए पहुंचा तो वहां पर मुझे अनुष्का कहीं भी नहीं दिखाई दे रही थी मैं जल्दी से अपने एग्जाम सेंटर में पहुंच गया और वहां से मैं अंदर रूम में चला गया, मैं अनुष्का को देख रहा था लेकिन वह मुझे कहीं भी नहीं दिखाई दे रही थी, दरअसल मैं काफी जल्दी पहुंच चुका था। कुछ देर बाद अनुष्का मुझे दिखाई दी अनुष्का ने मुझे देखते ही हाथ हिलाया, मैंने भी उसे हाथ हिलाया वह मुझसे काफी आगे वाली सीट में बैठी हुई थी, जब हम दोनों का एग्जाम खत्म हो गया तो मैं उसे मिला वह कहने लगी आपका एग्जाम कैसा हुआ? मैंने उसे कहा मेरा एग्जाम तो अच्छा हुआ और तुम्हारा एग्जाम कैसा हुआ? वह कहने लगी मेरा भी एग्जाम अच्छा ही हुआ है अब तो जब रिजल्ट आएगा उसी वक्त देखते हैं कि क्या होता है। हम दोनों बातें करते-करते काफी आगे तक आ चुकी थी मैंने उसे कहा तुम घर कैसे जाने वाली हो। वह कहने लगी मैं तो मेट्रो से ही जाऊंगी हम दोनों बातें करते हुए चल रहे थे तभी मैंने अनुष्का का हाथ अपने हाथों में ले लिया वह भी जैसे पूरे तरीके से मुझ पर मोहित हो चुकी थी। मैंने उससे कहा क्या तुम्हारे पास समय है? वह कहने लगी हां अब तो मेरे पास समय है। मैं उसे एक पार्क में लेकर चला गया जब हम दोनों उस पार्क में गए तो वहां पर सारे कपल एक दूसरे के साथ रोमेंटिक मूड मे थे हम दोनों भी एक कोने में जाकर बैठ गए।

मैं अनुष्का को कहने लगा तुम आज बहुत ही अच्छी लग रही हो। वह कहने लगी लेकिन मुझे तो नहीं लग रहा कि मैं ज्यादा अच्छी लग रही हूं। मैंने जब उसकी जांघ पर हाथ रखा तो उसकी मोटे जांघ गरम होने लगी। मैंने जब उसके चश्मे को उतारते हुए उसके गालों पर अपने हाथ को रखा तो वह मुझे कुछ भी नहीं कह रही थी मैंने उसके होठों को चूमना शुरू कर दिया। मैं उसके होठों को किस कर रहा था तो उसे भी कोई आपत्ति नहीं थी मैंने जब उसकी टी-शर्ट के अंदर से उसके स्तनों को दबाना शुरू किया तो उसके अंदर गर्मी बढ़ने लगी वह पूरे तरीके से जोश में आ चुकी थी। उसने भी मेरे लंड को अपने हाथों में पकड़ लिया और वह मेरे लंड को हिलाने लगे जब उसने मेरे लंड को अपने मुंह में लिया तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने भी उसकी जींस के अंदर हाथ डालते हुए उसकी चूत को सहलाना शुरु किया। उसकी चूत से गर्मी निकल रही थी मुझसे ज्यादा देर तक नहीं रहा मैंने उसकी जींस को उतारते हुए उसे अपनी गोद में बैठा लिया मेरा लंड उसकी चूत के अंदर जा चुका था, उसे बहुत तेज दर्द हो रहा था और उसकी चूत से खून भी निकल रहा था। पहले वह धीरे धीरे अपनी चूतडो को उपर नीचे कर रही थी लेकिन जब उसके अंदर गर्मी बढने लगी उसे भी मजा आने लगा। वह अपनी चूतडो को बड़ी तेजी से ऊपर नीचे करती जा रही थी मेरे अंदर भी जोश बढ़ने लगा था मैं भी उसे तेजी से धक्के मारा था लेकिन मुझे नहीं पता था मैं ज्यादा देर तक उसकी गर्मी नहीं झेल पाऊंगा। जैसे ही मेरा वीर्य गिरा तो वह मुझे कहने लगी तुमने तो मेरे अंदर ही अपने वीर्य को गिरा दिया। मैंने उसे कहा इसमें कोई डरने वाली बात नहीं है उसने अपनी चूतड़ों को मेरा लंड से हटाया जब उसने अपनी चूत को साफ किया तो उसकी चूत से खून निकल रहा था। हम दोनों ने अपने कपड़े पहन लिए थे हम दोनों उस पार्क के बाहर आ चुके थे, वहां खड़े ऑटो वाले से मैंने कहा भैया क्या आप हमें किसी अच्छे होटल में ले चलेंगे। उसने हमें एक अच्छे होटल में छोड़ दिया वहां रात भर में अनुष्का को चोदता रहा।


error:

Online porn video at mobile phone


chudai kahani balatkarxxx story gujaratigaram chudaisambhog hindiindian village suhagratnew sexi storymaa beta ki sexmrathi sexy storychoti ki gand marinadakacheri pahanidesi galiaunty ki sexland ki kahanisuhagrat ki chudai hindiwww new hindi sex storycollege hostel sexsex bhabhi kimastram ki kamuk kahaniyamoti gaand sex storychut ki kahaaniashlil kathajija saali chudai storygirl rape sex story in hindisasur aur bahu ki chodaibiwi ki chut marigadhi ki gaandsex story bhai behanchacha se chudibaap ne beti ko jabardasti chodaantarvasna chudaisexy hot chudai storyantrvana comwww fuck hindi combeti chodarandi maaxxx hindi chudai storysuhagrat ki kathagaon ki ladkiantarvasna ki chudai ki kahaniyasex ki baathindi sex story behan ki chudaihindi brother sister sexbrother sister sexysex story in hindi mp3sexy kahani bookmami sexy story hindidevar bhabhi sexi videorekha sex storybehan bhai ki chudai hindi kahanibehan bhai kitai ki gand mariantarvasna chudai story hindidesi bhabhi chudai comsex bahbisex stories for reading in hindireal hindi chudai kahanitype of chudaihindi kamuktahindi insect storyladki ki nangiantarvasna behan bhai ki chudaimast mast gaandhindi bhai behan chudai kahanidesi bhabhi ki mast chudaichut chudai ki khaniyadevar bhabhi ki chudai ki kahani in hindihidden chudai16 sal ki chudaiboudi chodanreal incest stories in hindisabse gandi chudairekha ki gand marihindi rape kahanihindi me chodne ki kahanihindi sax story comchut mari behan kifree desi porn storiesbhai behan chudai kahanibhabi fuck devarrandi banayaxxx sexy kahanihot story aunty ki chudaibhabhi devar sex hindihindi best chudai kahani